SEO Kya Hai? क्यों और कैसे करते हैं?- 2020 Hindi Guide

Table of Contents

SEO क्या है? (“SEO Kya Hai?”):

सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन यानि SEO एक ऐसी technique है जिसके द्वारा हम Target Audience को website पर ला सकते हैं Search Engine यानि Google की organic रेंकिंग के ज़रिये | अब अगर major tasks की बात करें तो इसमें include होता है: बहुत ही अच्छा Content , लिखे गये content को specific Keywords के अनुसार तैयार करना और उस content के backlink बनाना|

दूसरे शब्दों में:

अपनी website को Google के पहले पेज पर रैंक करवाना और free में अपनी website के लिए traffic लेने को Search Engine Optimization कहते है | किसी भी website को एक keyword के लिए रैंक करवाने का फ़ायदा यह है कि, एक महीने के बाद आपको अपनी website पर “Free” users मिल सकते हैं |

SEO-एक-साइट-की-organic-रैंकिंग-में-सुधार-करने-के-बारे-में-है-min

Search Engine कैसे काम करते हैं? (Search Engine Kaise Kaam Karte Hai?)

अब जब हमने इस सवाल का जवाब दे दिया है कि “SEO क्या है?”, अब यह सीखने का समय है कि Google जैसे Search Engine वास्तव में काम कैसे  करते हैं।

जब आप Google (या किसी अन्य Search Engine जैसे Bing, Yahoo) में कुछ Search करते हैं, तो एक Algorithm अपना सबसे अच्छा Result आपको कुछ ही समय (एक सेकंड से भी काम समय) में दिखा देता करता है जो उस Search Engine के हिसाब से “सर्वश्रेष्ठ” परिणाम (Best Result) होता है।

या कह सकते हैं कि Google अपने लाखों करोड़ों पेजों की सूची में से हमारे Search या प्रशन का best result स्केन करता है|

Google “सर्वश्रेष्ठ” परिणाम कैसे निर्धारित करता है?

भले ही Google अपने algorithm के आंतरिक कामकाज को सार्वजनिक नहीं करता है, पर Google द्वारा दिए गए अपने पेटेंट और बयानों के आधार पर हम जानते हैं कि website और web pages को इसके आधार पर रैंक किया जाता है:

1. प्रासंगिकता (Relevancy)

यदि आप “chocolate chip cookie recipes” के लिए search करते हैं, तो आप ट्रक टायर के बारे में web-page  नहीं देखना चाहेंगे।

यही कारण है कि Google उन results को सबसे आगे दिखाता है जो आपके keyword या search के अनुसार रिलेवेंट परिणाम होता है

हालाँकि, Google केवल “शीर्ष पर सबसे relevant pages” रैंक नहीं करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हर खोज शब्द (search keyword) के लिए Google के पास हजारों (या लाखों) relevant pages हैं।

उदाहरण के लिए, “cookie recipes” keyword पर Google में 349 मिलियन परिणाम है:

कुकी व्यंजनों - SERPs

इसलिए परिणामों को एक क्रम में रखने के लिए जो शीर्ष पर “सर्वश्रेष्ठ” परिणाम है, वे अपने algorithm के तीन अन्य elements पर भरोसा करते हैं:

2. अधिकार (Authority)

Authority शब्द अपने आप को स्वयं ही बयान करता है: यह निर्धारित करने के लिए Google तरीका है कि सामग्री (content) सटीक और विश्वसनीय है या नहीं।

सवाल यह है कि यदि कोई result page आधिकारिक (authoritative) है तो Google कैसे जानता है?

वे उस result page से लिंक होने वाले अन्य result pages की संख्या को देखते हैं:

लिंक किए गए पृष्ठों की संख्या के आधार पर प्राधिकरण

(अन्य page results के लिंक “backlinks” के रूप में जाने जाते हैं)

सामान्य तौर पर, एक page के जितने आधिकारिक लिंक होंगे, उतनी ही उच्च रैंक होगी:

अधिक बैकलिंक्स; उच्च रैंकिंग

(वास्तव में, Google द्वारा लिंक के माध्यम से authority को मापने की क्षमता वही है जो इसे याहू (Yahoo) जैसे सर्च इंजन से अलग करती है, जो इससे पहले आया था)।

3 उपयोगिता (Usefulness)

Content प्रासंगिक (relevant) और आधिकारिक (authoritative) हो सकती है। लेकिन अगर यह उपयोगी (Useful) नहीं है, तो Google उस सामग्री (content) को खोज परिणामों के शीर्ष पर नहीं रखना चाहेगा।

वास्तव में, Google ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि “उच्च गुणवत्ता वाली सामग्री” (higher quality content) और “उपयोगी” सामग्री (useful” content) के बीच अंतर है।

उच्च-गुणवत्ता की सामग्री और उपयोगी सामग्री के बीच का अंतर

उदाहरण के लिए, मान लें कि आप “Paleo Diet” की खोज करते हैं।

पहला result जिस पर आप क्लिक करते हैं (“परिणाम A “) Paleo पर दुनिया के अग्रणी विशेषज्ञ (foremost expert) द्वारा लिखा गया है। और क्योंकि पेज पर दिए गए content की quality बहुत अछि है इसलिए बहुत से लोग इससे पेज से जुड़े हैं ।

असंगठित सामग्री

हालांकि, सामग्री पूरी तरह से असंगठित (unorganized) है। और यह शब्दजाल से भरा है जिसे ज्यादातर लोग नहीं समझते हैं।

इसके विपरीत एक और परिणाम है (“परिणाम B “)

यह Paleo Diet में अपेक्षाकृत नए लोगों द्वारा लिखा गया है। और उनकी वेबसाइट के पास उतने लिंक नहीं हैं जितने की expert’s website की ओर इशारा करते हैं।

हालांकि, उनका content अलग-अलग वर्गों में व्यवस्थित है। और यह इस तरह से लिखा गया है कि कोई भी समझ सकता है:

उपयोगी सामग्री

खैर, यह page “उपयोगिता पैमाने” (usefulness scale) पर अत्यधिक रैंक करने वाला है। भले ही परिणाम B के पास उतना भरोसा या अधिकार न हो, लेकिन यह Google में अभी भी अच्छा प्रदर्शन करेगा।

(वास्तव में, यह रिजल्ट A की तुलना में भी higher रैंक कर सकता है)

Google मुख्य रूप से “User Experience Signals” पर आधारित उपयोगिता को मापता है।

दूसरे शब्दों में: उपयोगकर्ता (users) search results के साथ कैसे interact करते हैं। यदि Google देखता है कि लोग वास्तव में किसी विशेष search result को पसंद करते हैं, तो उसे रैंकिंग में महत्वपूर्ण वृद्धि मिलेगी:

सकारात्मक उपयोगकर्ता अनुभव रैंकिंग को बढ़ा देता है

Higher Ranking के लिए मेरा # 1 SEO Tip 

एक वेबसाइट बनाएं जिसे लोग प्यार करते हैं! Search Engines को वेब पर विभिन्न संकेतों को मापने के लिए डिज़ाइन किया गया है ताकि वे ऐसी वेबसाइटें पा सकें जो लोगों को सबसे ज्यादा पसंद हों। उन संकेतों को वास्तविक बनाकर उनके rules के हिसाब से काम करेंऔर कभी भी उनके rules के विरुद्ध काम मत करना।

और अब समय आ गया है की इस practice को step by step व्यवहार में लाया जाये।

SEO कैसे काम करता है – SEO Kaise Kaam Karta Hai

एसईओ (SEO) आपकी साइट को search engine के नियम अनुसार optimize करके काम करता है जिसे आप रैंक करना चाहते हैं, चाहे वह Google, Bing, Amazon या YouTube हो।

विशेष रूप से, आपका काम यह सुनिश्चित करना है कि एक search engine आपकी साइट को किसी व्यक्ति की search के लिए समग्र सर्वोत्तम परिणाम के रूप में देखे।

वे “सर्वश्रेष्ठ” परिणाम कैसे निर्धारित करते हैं, यह एक एल्गोरिथ्म पर आधारित है जो कि account authority, उस query की relevancy, loading speed और अन्य तथ्यों पर आधारित है।

(उदाहरण के लिए, Google के पास अपने एल्गोरिथ्म में 200 से अधिक रैंकिंग कारक (ranking factors) हैं)।

ज्यादातर मामलों में, जब लोग “search engine optimization” सोचते हैं, तो वे सोचते हैं कि “Google SEO”। यही कारण है कि हम इस गाइड में Google के लिए आपकी साइट को optimize करने पर ध्यान केंद्रित करने जा रहे हैं।

Organic Aur Paid Results Me Kya Antar Hai

Search Engine Result Page को दो अलग-अलग वर्गों में विभाजित किया गया है: Organic vs Paid Results.

Organic vs. Paid Results

Organic Search Results (जिसे हम “natural” ranking के रूप में ब्यान करते है) ये results 100% केवल योग्यता के आधार पर रैंक करते हैं।

दूसरे शब्दों में, Organic Search Results में उच्च रैंक प्राप्त करने के लिए Google या अन्य search इंजनों को किसी भी तरीके का कोई भी भुगतान नहीं करना पड़ता है।

Search इंजन सैकड़ों विभिन्न रैंकिंग कारकों के आधार पर organic search results को रैंक करता है। लेकिन सामान्य तौर पर, organic results को Google द्वारा सबसे अधिक relative, trustworthy और authoritative वेबसाइट या वेब पेज माना जाता है।

Organic results are higher quality

मेरे पास और भी details हैं कि सर्च इंजन algorithm कैसे काम करते हैं। लेकिन अभी के लिए सिर्फ एक बात ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है:

जब हम “एसईओ” के बारे में बात करते हैं, तो हम आपकी वेबसाइट को organic search results में higher रैंकिंग देने के बारे में बात कर रहे हैं।

Paid Results

Paid search results वे विज्ञापन होते हैं जो organic results के ऊपर या नीचे दिखाई देते हैं।

Paid results ranked by amount paid

Paid ads पूरी तरह से organic listings से अलग हैं। विज्ञापनदाता (Advertisers) Paid ads section में अपनी website को “रैंक” करवाने के लिए “कितना” पैसा खर्च करने के लिए तैयार हैं, जिससे की कोई विशेष व्यक्ति keyword search करके उनकी website पर आये (जिसे “Pay Per Click Advertising के रूप में जाना जाता है”)।

Search Engine Marketing (SEM) types compared

SEO क्यों महत्वपूर्ण है? (SEO Kyun Important Hai?)

संक्षेप में: Search, traffic का एक बड़ा स्रोत है।

वास्तव में, यहां एक ब्रेकडाउन है जहां अधिकांश वेबसाइट ट्रैफ़िक की उत्पत्ति होती है:

Traffic data referrer

जैसा कि आप देख सकते हैं, web पर लगभग 60% ट्रैफ़िक Google search से शुरू होता है। और यदि आप अन्य लोकप्रिय सर्च इंजन (जैसे Bing, Yahoo और YouTube) से ट्रैफ़िक जोड़ते हैं, तो सभी ट्रैफ़िक का 70.6% एक search engine से निकलता है।

Web traffic sources

आइए उदाहरण के साथ SEO के महत्व को स्पष्ट करें …

मान लीजिए कि आप एक party supply कंपनी चलाते हैं। Google Keyword Planner  के अनुसार, हर एक महीने में 110,000 लोग “party supplies” के लिए खोज करते हैं।

यह देखते हुए कि Google में पहला परिणाम सभी क्लिकों का लगभग 20% होता है, जो कि आपकी वेबसाइट पर हर महीने 22,000 visitors को दिखाई देता है, यदि आप शीर्ष पर हैं।

Number of clicks

लेकिन यह बताइए कि वे visitor कितने मूल्य के हैं?

उस search phrase के लिए औसत advertiser प्रति क्लिक लगभग 1 डॉलर खर्च करता है। जिसका अर्थ है कि 22,000 visitors का वेब ट्रैफ़िक लगभग 22,000 डॉलर प्रति माह है।

How much each click is worth

और यह सिर्फ उस search phrase के लिए है। यदि आपकी साइट SEO के अनुकूल है, तो आप विभिन्न search phrases के सैकड़ों (और कभी-कभी हजारों) keywords के लिए रैंक कर सकते हैं।

रियल एस्टेट या बीमा जैसे अन्य उद्योगों में, search engine traffic का मूल्य काफी अधिक है।

उदाहरण के लिए advertisers, search phrase “auto insurance price quotes” पर $ 45 प्रति क्लिक का भुगतान कर रहे हैं।

Search engine traffic value across industries

Customers Aur Keyword Research

इससे पहले कि आप Title Tag और HTML के बारे में सोचना शुरू करें, यह एक महत्वपूर्ण कदम को नहीं छोड़ना है, और वो है: 

Customer and keyword research

यहां वह जगह है जहां आप पता लगाते हैं कि आपके ग्राहक क्या search करते हैं … और exact words और phrases जो search करने के लिए उपयोग करते हैं। इस तरह, आप अपनी साइट को उन चीजों के लिए रैंक कर सकते हैं जो आपके ग्राहक हर दिन खोजते हैं।

क्या आपको ये सब सुन कर अच्छा लग रहा है? इसको वास्तव में कैसे करना है, हम इसी के बारे में इस blog में बात करेंगे।

Customer Research

यदि आप पहले से ही एक ऑनलाइन business चला रहे हैं, तो आपको शायद इस बात का अच्छा अंदाजा है कि आपका target customer कैसा दिखता है।

(जिसे की “Customer Persona” के रूप में भी जाना जाता है)।

यहाँ एक उदाहरण है:

Basketball persona

इस प्रकार के customer research केवल आपको उन products को बनाने में मदद करने के लिए नहीं है जो लोग चाहते हैं। यह SEO और content marketing का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है।

चलो में आपको अच्छे से समझाता हूँ…

SEO के साथ सफल होने के लिए, आपको उन विषयों के आसपास content बनाने की आवश्यकता होती है जो आपके ग्राहक search करते हैं।

और जब तक आप नहीं जानते कि आपका customer कौन है, तब तक उन चीजों के प्रकारों को समझना लगभग असंभव है जिन्हें वे search करते हैं।

अपने target customer को जानने और समझने का सबसे अच्छा तरीका है? HubSpot’s Make My Persona tool.

Make My Persona tool

यह free tool आपको एक customer persona, को चरण-दर-चरण बनाने में मदद करता है। प्रक्रिया के अंत में आपके पास एक detailed avatar होगा जिसे आप बार-बार refer कर सकते हैं।

Persona overview

Keywords Kaise Find Karte Hain

अब जब आपके पास एक customer personal है, तो यह अगले चरण में जाने के लिए सही समय है:  Keyword research.

यहां आप उन exact words और phrases को अच्छी तरह से समझते हैं जो ग्राहक search box में टाइप करते हैं।

सामान्य तौर पर, keywords दो मुख्य category में आते हैं: 

वे कीवर्ड जिनके माध्यम से आप अपने products और services को अपने users को बेचते हो। वो Product Keywords होते हैं | 

आपके पास ऐसे कीवर्ड भी होते हैं जो आपके target audience द्वारा उपयोग किए जाते हैं, जब वे विशेष रूप से आपके द्वारा बेची जाने वाली सूचनाओं की तलाश में नहीं होते हैं। वो (Informational Keywords) होते हैं।

Product .vs. Informational keywords

आपको ये example कैसा लगा?

मान लीजिए कि आप एक ई-कॉमर्स वेबसाइट चलाते हैं जो टेनिस जूते बेचती है।

आपके product keywords की list कुछ इस तरह होगी:

  • Tennis shoes free shipping
  • Nike tennis shoes
  • Tennis shoes for flat feet

दूसरी ओर, (Informational Keywords) अब आपके पास कुछ ऐसी चीजें हैं, जो आपके दर्शकों को तब पसंद आती हैं, जब वे निश्चित रूप से जूते नहीं खोजते हैं:

  • Second serve tutorial
  • How to stop unforced errors
  • Proper backhand form
  • How to hit a topspin serve

और SEO के साथ सफल होने के लिए, आप दोनों प्रकार के keywords के आसपास अपनी वेबसाइट के pages को optimize करना चाहिए।

इस तरह, जब आपका ग्राहक आपके product की खोज करता है, तो आप search engine results में दिखाई देते हैं।

और उन कीवर्ड के लिए जिनका उपयोग आपके ग्राहक तब करते हैं जब वे आपके product or service की तलाश में नहीं होते हैं, तब भी आप उन लोगों को दिखाई देते हो।

Keyword Research Tips

Keyword Research करने में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ tips दी गई हैं।

सबसे पहले,  Google Autocomplete का उपयोग करें।

आप में से ज्यादातर लोगो ने शायद इस technique को पहले भी use किया होगा।

जब भी आप Google में कुछ लिखना शुरू करते हैं, तो आपको search suggestions का एक समूह मिलता है:

Google autocomplete

मेरा सुझाव है कि आप Google में keyword ideas को टाइप करें और जो भी सुझाव आते हैं, उन्हें note करलें।

दूसरा, आप अपने words and phrases को Answer The Public वेबसाइट में search करें।

Answer The Public

यह free tool informational keywords खोजने के लिए बहुत अच्छा है।

उदाहरण के लिए, यदि आप Paleo Diet के बारे में ब्लॉग चलाते हैं, तो आप ATP में “Paleo Diet” टाइप करें:

Answer The Public – paleo diet results

और यह उन प्रश्नों को पूरा करेगा जो लोग उस विषय के आसपास पूछते हैं।

उदाहरण के लिए, एक प्रश्न जो मुझे मिला वह यह था कि “will paleo diet increase cholesterol?”।

Answer The Public – “paleo diet cholesterol”

यह प्रश्न एक ब्लॉग पोस्ट या वीडियो के लिए एक अच्छा विषय है।

Next, Keyword Research Tool का उपयोग करें।

Keyword Tool आपको यह पता लगाने में मदद कर सकते हैं कि प्रत्येक keyword के लिए कितने लोग search करते हैं और उस keyword के लिए Google के first page पर रैंक करना कितना मुश्किल होगा।

दूसरे शब्दों में, वे आपकी list से सर्वश्रेष्ठ keyword चुनने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

यहाँ मैंने कुछ Tools के link दिए हैं आप इन्हे एक बार इन्हें इस्तेमाल करके देख सकते हैं :

लेकिन मेरे अनुसार सबसे अच्छा free keyword tool, Google का Keyword Planner ही है।

Google Keyword Planner

भले ही Keyword Planner को Google Ads campaign वाले लोगों की सहायता के लिए डिज़ाइन किया गया था, फिर भी यह आपको SEO के लिए keywords खोजने में मदद कर सकता है।

आपको केवल एक product keyword या informational keyword दर्ज करना होगा।

Google Keyword Planner – paleo diet search

फिर आपको उस exact phrase की (search volume range) … और related keywords की एक सूची पर डेटा मिलेगा।

Google Keyword Planner – Keywords

Search Volume Range को देख कर आपको कुछ परेशानी हो सकती है। लेकिन यह कम से कम आपको कुछ idea तो देता ही है कि हर महीने उस keyword को कितनी बार search किया जाता है।

यदि आप अधिक exact search volume डेटा चाहते हैं, तो आपको Google Ads campaign चलाने की आवश्यकता है।

Google Keyword Planner – Start campaign

यदि आप अधिक exact search volume की जानकारी चाहते हैं तो आप अन्य paid tools जैसे: (Ahrefs, SEMRush अदि) का उपयोग कर सकते हैं, जिसमें आपको अधिक precise search volume की जानकारी मिलती है।

सामान्य तौर पर, मैं ranges के बारे में चिंता नहीं करता। वे अभी भी different keywords के बीच relative search volume का पता लगाने में सहायक हैं।

दूसरे शब्दों में:

Google Keyword Planner से प्राप्त की जाने वाली ranges का उपयोग यह पता लगाने के लिए करें कि कौन से Keyword को ज्यादा serches मिलते हैं … और कौन से Keyword बहुत खोजे नहीं जाते हैं।

अंत में, यदि आप SEO के लिए नए हैं, तो आप long-tail keywords पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

क्यों?

क्योंकि long-tail keywords कम प्रतिस्पर्धी (competitive) होते हैं।

Number of keywords Competition .vs. Conversion

एक बार जब आप SEO को अच्छी तरह से समझ लेते हैं, तो आप अधिक competitive keywords को target करना शुरू कर सकते हैं। लेकिन जब आप अभी शुरू कर रहे हैं, तो long tail terms पर टिकें।

SEO-Friendly Content Kya Hota Hai (SEO-Friendly Content)

यह कोई रहस्य नहीं है कि SEO और Content एक दुसरे के साथ निकटता से जुड़े हुए हैं।

सामान्य तौर पर, आप जितना अच्छा Content वहां डालेंगे, उतनी ही उच्च रैंक प्राप्त करेंगे। यह (स्पष्ट रूप से) इतना आसान नहीं है। लेकिन जैसे ही आप SEO के लिए Content लिखते हैं उसका अच्छे से पालन करना एक अच्छा नियम है।

इसके साथ, यहां इस ब्लॉग में SEO-friendly content बनाने के तरीके के बारे में अधिक जानकारी दी गई है।

Creating Content for Product and Service Pages

Product and Service Pages के लिए Content अभी भी उच्च गुणवत्ता वाली होनी चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपने Product Pages को ब्लॉग पोस्ट की तरह पढ़ना चाहते हैं।

वास्तव में, आपके Product Pages का मुख्य लक्ष्य ब्राउज़र को लीड और ग्राहकों में परिवर्तित करना होना चाहिए। यही कारण है कि आप चाहते हैं कि आपके Product Page उन सुविधाओं और लाभों पर ध्यान केंद्रित करें जो आपके Product प्रदान करते हैं।

उदाहरण के लिए, Baremetics का homepage देखें।

Baremetrics – Homepage

कई मायनों में, भले ही यह ब्लॉग पोस्ट या लेख नहीं है, फिर भी यह उच्च-गुणवत्ता वाला content है। जैसा कि आप देख सकते हैं, इसके page को अच्छी तरह से डिज़ाइन किया गया है और मुख्य product की विशेषताएं outline करता है।

Baremetrics – Features

तो “revenue forecasting software” जैसे Product Keyword की खोज करने वाले किसी व्यक्ति को इस page से बहुत अधिक मूल्य मिलेगा … भले ही page का मुख्य लक्ष्य आपको परीक्षण के लिए sign up करना है।

अगर मुद्दे की बात की जाये तो, अपने product page के content को यथासंभव उपयोगी बनाएं। लेकिन यह मत भूलो कि conversions आपका # 1 लक्ष्य होना चाहिए।

Blog Ke Liye High-Quality Content Banana – (Creating High-Quality Blog Content)

जब अधिकांश लोग “content is king” जैसी बातें कहते हैं, तो वे ब्लॉग पर प्रकाशित होने वाली useful content के प्रकार के बारे में बात कर रहे हैं।

(दूसरे शब्दों में: ऐसा content नहीं जो आपको अधिकांश product and services pages पर मिलेगा)।

और इसमें कोई संदेह नहीं है कि कमाल की content का उत्पादन आपकी Google रैंकिंग को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

वास्तव में, हबस्पॉट ने पाया कि नियमित रूप से content प्रकाशित करने वाले businesses को उन लोगों की तुलना में 350% अधिक ट्रैफ़िक मिलता है, जो अपने content marketing में अधिक से अधिक प्रयास नहीं करते हैं।

HubSpot traffic

आज अगर आप SEO के साथ सफल होना चाहते हैं तो आपको अपनी वेबसाइट पर लगातार high quality का content update करना ही होगा | 

वास्तव में, WordPress के नवीनतम आंकड़े बताते हैं कि हर महीने 70 मिलियन ब्लॉग पोस्ट upload किये जाते हैं:

70 million new posts

और वह सिर्फ WordPress है। लोग लाखों पोस्ट को Medium, Shopify और अन्य प्लेटफार्मों पर भी प्रकाशित करते हैं।

अगर मुद्दे की बात की जाये तो आपके content के लिए 2020  में  रैंक करने के लिए,  exceptional होना चाहिए। अन्यथा, यह आपका post हर दिन निकलने वाले लाखों posts से दफन होने जा रहा है।

High-Quality Content Examples

अब मैं high-quality वाले content के कुछ उदाहरणों को साझा करना चाहता हूं जो 2020 में वास्तव में अच्छी तरह से काम कर रहे हैं।

Complete Lists

Complete Lists वे हैं जहाँ आप tips, items, techniques, recipes की एक विस्तृत सूची संकलित करते हैं … या कुछ भी जिसके बारे में आप सोच सकते हैं।

ये मूल्यवान हैं क्योंकि आप बहुत से विभिन्न स्रोतों से items इकठे कर रहे हैं। इसलिए 20 पोस्ट के साथ एक पोस्ट और 15 टिप्स के साथ एक और पोस्ट पढ़ने के बजाय, आप अपने content में लोगों को वह सब कुछ देते है जिसकी उन्हें एक पेज पर जरूरत होती है।

Step-By-Step Guides

विस्तृत Step-By-Step Guides इंटरनेट जितनी ही पुरानी हैं। और वे अभी भी अच्छा काम कर सकते हैं।

Content With Data

BuzzSumo ने हाल ही में अपने “Content Trends Report” के हिस्से के रूप में 100 मिलियन posts की समीक्षा की।

BuzzSumo – Social sharing

उन्होंने पाया कि लोगों को content को share करने और लिंक करने के लिए पहले से कहीं अधिक कठिन है। 

अधिक सकारात्मक सोच के आधार पर, उन्होंने पाया कि, “authoritative research और reference content लिंक हासिल करना जारी रखती है।”

दूसरे शब्दों में: डेटा के साथ सामग्री अभी भी वास्तव में अच्छी तरह से काम कर रही है।

Complete Guides

Complete guides,  Complete Lists के समान हैं, जिनके बारे में हमने पहले बात की थी।

बड़ा अंतर यह है कि एक Complete guides के साथ आप जरूरी नहीं कि आप list of tips or examples की एक विशाल सूची की रूपरेखा तैयार कर रहे हैं। इसके बजाय, आप दिए गए विषय पर हर कोण को कवर कर रहे हैं।

हां, आप अभी भी actionable strategies को कवर करना चाहते हैं। लेकिन मुख्य लक्ष्य किसी को एक page पर किसी विषय के बारे में जानने के लिए जो आवश्यक है वो सब कुछ देना है।

प्रो टिप: अपने गाइड के सामने आने वाली बाधाओं को बढ़ाने के लिए नए, ट्रेंडिंग टॉपिक्स को कवर करें।

उदाहरण के लिए, Ketogenic Diet  के लिए यह guide 2013 में सामने आई थी … ठीक उसी तरह जैसे कि कीटो मूवमेंट को गति मिल रही थी।

Keto movement post

क्योंकि यह guide अपनी तरह की पहली में से एक थी, Paleo space में सैकड़ों ब्लॉगर्स इससे जुड़े और इसे सोशल मीडिया पर साझा किया।

Visual Content

हाल के एक industry study में पाया गया कि Visual Content (infographics) का एक रूप लिंक प्राप्त करने के लिए एक आदर्श content प्रारूप था।

Infographics content chart

बेशक, visual content बनाने का एकमात्र तरीका infographics नहीं है। Videos, flowcharts, screenshots और बहुत कुछ हैं। यहां तक ​​कि आपके पास विभिन्न प्रकार की visual content के संयोजन भी हैं, जैसे “Instructographics”।

On-Page SEO Kaise Karen – On-Page SEO Basics

On-Page SEO यह सुनिश्चित करता है कि Google को आपके वेब पेज मिल सके ताकि वे उन्हें search results में दिखा सकें। इसमें उन relevant, detailed, and useful content शामिल है, जिन्हें आप दिखाने की कोशिश कर रहे हैं।

On-page SEO

विशेष रूप से Google, specific words and phrases के लिए आपके page को स्कैन करता है।

और जब वह एक ही शब्द को बार-बार देखता है, तो Google कहता है: “यह page इस keyword के बारे में होना चाहिए!”।

यही कारण है कि यह आपके page पर अपने target keyword का उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

अभी के लिए, आइए हम कवर करते हैं, कैसे अपनी website के on-page SEO को कैसे optimize करें।

Install Yoast

यदि आपकी साइट WordPress पर चलती है, तो मैं Yoast SEO plugin का उपयोग करने की अत्यधिक सलाह देता हूं।

नहीं, Yoast कोई जादुई बटन नहीं है जो आपकी site को automatically रूप से optimize करेगा।

लेकिन Yoast आपके page के title and description tag को सेटअप करने में मदद जरूर करता है।

Yoast SEO – Title + Description

इसमें और भी बहुत से options हैं जो की आपकी वेबसाइट को optimize करने में सहायता करता है।

Yoast SEO – Features

यदि आपकी साइट किसी अन्य प्लेटफ़ॉर्म (जैसे Shopify या Wix) पर चलती है, तो वे SEO सुविधाओं के साथ pack होते हैं, जो Yoast में है।

अपने Title Tag में अपने Keyword का प्रयोग करें

on-page SEO का # 1 नियम यह है:

अपने Title Tag में अपने Keyword का उपयोग करें।

यह महत्वपूर्ण क्यों है?

खैर, जब on-page optimization की बात आती है, तो आपका Title Tag आपके page का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है।

Keyword in title tag chart

इस तरह से इसके बारे में सोचो:

आपका title tag संक्षेप में बताता है कि आपका page क्या है। और जब आप अपने title tag में अपने keyword का उपयोग करते हैं, तो यह Google को बताता है कि आपका page उस  keyword के बारे में है।

Optimize Your Meta Description For Clicks

आपका meta description आपके title tag जितना महत्वपूर्ण नहीं है।

वास्तव में, Google ने कहा है कि वे आपके description (या meta keywords) पर अधिक ध्यान नहीं देते हैं।

Google – Meta keywords

तो आपको एक description बनाने से क्यों परेशान होना चाहिए?

क्योंकि लोग आपके description का उपयोग करते हैं कि आपके result पर क्लिक करें या नहीं।

प्रो टिप: अपने description में अपने main keyword का उपयोग करें। जब कोई व्यक्ति उस शब्द को search करता है, तो Google आपके keyword को bold कर देगा … जो आपकी साइट को SERPs में और भी अधिक मजबूती से rank करने में मदद करता है।

paleo diet SERP description

Use Keywords In Your Content

इसके बाद, आप अपने keyword को अपने page पर एक या एक से अधिक बार use करें।

इस तरह, Google आश्वस्त हो जाएगा कि आपका page वास्तव में उस विषय (topic) के बारे में है।

ध्यान देने वाली एक बात यह है कि आप Google के दिशानिर्देश को अपने दिमाग में रखना होगा और हर पेज पर अपने keyword को 100 बार उपयोग नहीं करना हैं। यह एक black hat SEO रणनीति है जिसे “keyword stuffing” भी कहा जाता है, जो आपकी साइट को penalized कर सकता है।

Keyword stuffing

आखिरी बात यह है की अगर आप अपने page पर 2-3% तक अपने main keyword को शामिल करें। यदि आप उस राशि से अधिक या कम राशि में अपने keyword को use करते हैं तो यह कोई बड़ी बात नहीं है। लेकिन यदि आप जानबूझकर अपने content में keywords भरते हैं, तो आप वास्तव में आप अपना अच्छा करने की जगह अपना नुकसान अधिक रहे हैं।

पर्यायवाची शब्द और भिन्नता का प्रयोग करें – Synonyms Keywords Aur Variations Ka Use Kare

आप अपने content में अपने target keyword के पर्यायवाची (synonyms) और variations का उपयोग करना सुनिश्चित करें।

यह आपके सिंगल पेज को दर्जनों विभिन्न keyword के लिए रैंक करने में मदद कर सकता है।

मान लें कि आपने केवल एक article publish किया है जो कि “digital marketing tips” keyword के चारों ओर optimized है।

आप अपने content में उस शब्द के variations का उपयोग कर सकते हैं:

  • Internet marketing tips
  • Blogging tips
  • Beginner marketing tips

Note: Google और Bing Suggest में अपने keyword की variations को ढूंढें। बस अपने keyword को search bar में टाइप करें और suggestions को देखें।

Google suggest

देखें इनमे से कौन सा keyword आपके content के लिए सही है|

Images Ko Optimize Kare – Optimize Images

एक text-based article के विपरीत, search engines को यह समझने में बहुत कठिनाई होती है की उस image में क्या है।

इसलिए वे पूरी तरह से आपकी image के नाम, alt text और title पर भरोसा करते हैं ताकि यह पता लगाया जा सके कि वास्तव में एक image क्या है।

और यदि आप बहुत सारी images के साथ एक साइट चलाते हैं, तो image SEO बहुत महत्वपूर्ण है। अन्यथा, Google को ये समझने में कठिनाई होगी कि आपके page पर क्या है।

मेने यहाँ इस ब्लॉग में ये भी बताया है कि कैसे आप अपनी images को optimize कर सकते हैं :

सबसे पहले, आप अपनी image को एक descriptive फ़ाइल नाम दें।

Alt text on an image

Next, आप अपनी  image पर alt text का उपयोग करें जो आपकी image को describes करता है।

User Experience (UX)

आपके पास एक वेबपेज हो सकता है, जो कि SEO के लिए सही रूप से optimized हो।

लेकिन अगर ऐसा दिखता है तो?

Ugly website

यह बहुत लंबे समय तक रैंक करने वाला नहीं है।

भले ही User Experience एक subjective topic है (जिसे measure करना  Google, Bing और Yahoo जैसे प्रमुख search engines के लिए भी बहुत कठिन काम है ), यह indirectly रूप से आपके SEO को प्रभावित करता है।

आखिरकार, यदि आपकी साइट का उपयोग करना कठिन है, तो लोग इसे साझा नहीं करेंगे। और लिंक और शेयरों के बिना, Google में आपकी रैंकिंग की संभावना बहुत अधिक तक शून्य हो जाती है।

यदि आप UX के बारे में अधिक जानना चाहते हैं, तो यह giude एक शानदार शुरुआत है

Content Quality

आपने शायद सुना है कि “high-quality content” महत्वपूर्ण है।

और यह सही भी है।

हालाँकि, जैसे मैंने पहले बात की थी, केवल high-quality content पर्याप्त नहीं है।

आपके content को 2020 में रैंक करने के लिए,  AMAZING होना चाहिए।

इसके लिए उन लोगों की जरूरतों को भी पूरा करना होगा जो आपके target keyword की खोज करते हैं।

Technical SEO Kya Hota Hai – Intro to Technical SEO

Technical SEO एक बड़ा विषय है। Technical SEO के साथ मुख्य लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि search engines आपकी वेबसाइट पर सभी pages को आसानी से खोज कर crawl कर सके। लेकिन हाल के वर्षों में, Technical SEO में site loading speed, mobile optimization और अधिक जैसे विषय भी शामिल हुए हैं।

अधिकांश साइट मालिकों को Technical SEO के बारे में ज्यादा चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

(खासकर अगर आपकी साइट WordPress में चलती है)

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आपको Technical SEO को पूरी तरह से अनदेखा करना चाहिए। एक गलत कदम और आपकी पूरी साइट ख़राब हो सकती है

Moz – Noindex article

इसके साथ, आपको यहाँ overview दिया गया है कि कैसे आप technical  SEO कर सकते है और वो भी बिना किसी coding skills के।

Apni Website Ko Google Search Console Me Verify Karwao

Google Search Console में आपको एक dashboard मिलता है जिसमे आप ये देख सकते है कि Google में आपकी साइट की health और performance क्या है।

(मजेदार तथ्य: बिंग के पास भी इस tool का अपना version है, जिसे Bing Webmaster Tool कहा जाता है)।

GSC का उपयोग करने के लिए, आपको यह सत्यापित करना होगा कि आप ही इस site के owner हैं

जब आप ऐसा करते हैं, तो आपको एक awesome tool मिलेगा, जो आपको दिखाता है कि Google के search results में कितने लोग देखते हैं और आपकी साइट पर क्लिक करते हैं:

Website clicks

लेकिन ये सिर्फ ऊपर-ऊपर की बातें हैं।

GSC सहायक सुविधाओं से भरा है जो आपको सीधे Google पर अपना साइटमैप सबमिट करने की अनुमति देता है, जिससे आप देख सकते है कि कितने pages indexed हैं।

SEO-Friendly URL Structure Ka Use Karo – Use an SEO-Friendly URL Structure

अधिकांश लोग अपने URL में बहुत अधिक विचार नहीं करते हैं।

जिससे कि यह इस तरह से अजीब दिखने वाले URL की तरह बन जाता है:

Bad URL example

जैसा कि यह पता चला है, आपके URL आपकी साइट के SEO का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।

जब URL की बात आती है, तो सुनिश्चित करें कि:

  • आपके URL का structure हर जगह consistent हो। इस तरह, Google को पता है कि आपके पेज किस category में आते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके पास वेबसाइट का एक URL है, जैसे कि website.com/coffee, तो सुनिश्चित करें कि कोई भी कॉफी-संबंधित पेज उस category के अंतर्गत आने चाहिए जैसे: website.com/coffee/french-press। यदि आप category pages का उपयोग नहीं करते हैं, तो आप अपने सभी URL सिर्फ वेबसाइट.com/page-name पर open सकते हैं।
  • अपने URL में keyword का उपयोग करें। keyword stuff करने की आवश्यकता नहीं है। बस यह सुनिश्चित करें कि आपका target keyword आपके URL में एक बार दिखाई दे। उदाहरण के लिए: website.com/your-keyword।
  • छोटा URL Google में सर्वश्रेष्ठ रैंक करते हैं।
URL length – Chart

अब प्रश्न यह है:

क्या आपको वापस जाना चाहिए और अपने मौजूदा URL को बदलना चाहिए?

यह स्पष्ट रूप से आप पर निर्भर है। लेकिन मैं आमतौर पर सलाह देता हूं कि लोग अपने URL को उसी जगह में छोड़ दें, जैसे वो अभी है … भले ही वे आदर्श न हों। इसके बजाय, भविष्य में आपके द्वारा publish pages के लिए SEO-friendly URL बनाने पर ध्यान दें।

लेकिन यदि आप पुराने URL को optimize करने का निर्णय लेते हैं, तो पुराने URL को नए URL में 301 redirect करना सुनिश्चित करें। और अगर इस नई structure में similar content वाले कई pages हैं, तो canonical URLs का उपयोग करें।

Measure and Optimize For Page-speed

एक slow loading वेबसाइट users के लिए केवल परेशान करने वाली नहीं है। यह आपके SEO को भी नुकसान पहुंचा सकता है।
2018 में Google ने एक नए “Speed Update” की घोषणा की थी।

Google speed update

जैसा कि नाम से पता चलता है, इस अपडेट ने मोबाइल डिवाइस पर धीरे-धीरे लोड होने वाले वेबपेजों को दंडित करना शुरू कर दिया।

Mobile speed update

सौभाग्य से, Google आपको यह अनुमान नहीं लगाता है कि आपकी साइट धीमी है या नहीं।

वास्तव में, उन्होंने सिर्फ अपने PageSpeed Insights tool का अपडेटेड संस्करण लॉन्च किया।

सिर्फ यही नहीं, यह आपके पेज को 0-100 की स्पीड रेटिंग भी देता है।

और भी बहुत सारे suggestions देता है, जिससे आप अपनी वेबसाइट की स्पीड बड़ा सकते हो।

PageSpeed Insights – Fixes

(ध्यान दें: आपके द्वारा प्राप्त सुझावों के आधार पर, आप कई WordPress plugins के साथ अपनी साइट की loading speed को बेहतर बनाने में सक्षम हो सकते हैं। यदि नहीं, तो आपको अपनी साइट के HTML को बदलने के लिए एक developer की आवश्यकता हो सकती है)

Setup HTTPs

Google उन वेबसाइटों के search results में थोड़ी बढ़त देता है जो HTTPS के साथ सुरक्षित हैं।

वास्तव में, Mozcast के अनुसार, पहले page के 93.6% results HTTPS encryption के साथ सुरक्षित हैं।

HTTPS results

और जब आप किसी ऐसी साइट पर जाते हैं जो सुरक्षित नहीं है, तो Google Chrome ने एक बड़ी चेतावनी प्रदर्शित करना शुरू कर दिया है।

Not-secure website

इसलिए यदि आपकी साइट सुरक्षित नहीं है, तो मैं आपको जल्द से जल्द इसे ठीक करने की सलाह देता हूं।

HTTPS में जाने के साथ एकमात्र मुद्दा यह है कि अचानक आपके pages का अलग URL बन जाता है। इसलिए यह वास्तव में महत्वपूर्ण है कि आपके सभी pages को एक ही URL पर redirect करें।

Different versions of the same site

यदि आपको इस प्रक्रिया में और अधिक जानकारी की आवश्यकता है, तो मेरी ये सलाह है कि आप एक बार इस checklist को जरूर देखें

एक सवाल बहुत से लोग मुझसे पूछते हैं: “क्या HTTPS पर स्विच करने से मेरी Google रैंकिंग में सुधार होगा?”

मेरा उत्तर: “हो सकता है”।

मुझे नहीं लगता कि HTTPS एक सुपर महत्वपूर्ण रैंकिंग कारक है। वास्तव में, Google ने HTTPS को “tiebreaker” के रूप में संदर्भित किया है

Google HTTPS tiebreaker

इसलिए यदि आप # 8 रैंक करते हैं, तो HTTPs पर जाना आपको # 7 पर ले जा सकता है।

Website Architecture Or Internal Linking

जब आपकी साइट बिल्कुल नई हो और केवल 5 pages हों, तो website architecture के लिए यह सब बहुत मायने नहीं रखता है।

लेकिन जब आपकी साइट सैकड़ों या हजारों pages तक बढ़ती है, तो आपकी साइट की architecture कैसे सेटअप होती है, यह एक बड़ा बदलाव ला सकता है।

सबसे पहले, आप एक organized structure (जिसे “hierarchy” भी कहा जाता है) बनाना चाहिए, जो आपके pages को categories में व्यवस्थित करता है।

Interlinking site architecture = Easy indexing

उसके बाद, आप अपनी वेबसाइट पर high-priority pages पर internal links का उपयोग कर सकते हैं।

Link to important pages

बस इस बात को ध्यान में रखना है कि आप अपने internal links को अपने targeted keyword पर ही rich anchor text लगाएं ।

इसलिए यदि आप cold brew coffee के बारे में अपनी साइट के किसी पेज से लिंक कर रहे हैं, तो “click here” जैसे anchor text का उपयोग न करें। इसके बजाय, सुनिश्चित करें कि आपके anchor text में एक keyword शामिल हो, जैसे “this cold brew coffee guide”।

Optimize For Mobile

Mobile optimization “अच्छा है या नहीं” अब वो समय चला गया है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि Google का एल्गोरिथ्म अब mobile-first index है। जिसका अर्थ है कि आपकी वेबसाइट का मोबाइल संस्करण “main” version है जिसे Google देखता है।

इसलिए यदि आपकी साइट डेस्कटॉप पर जल्दी लोड होती है, लेकिन मोबाइल पर धीरे-धीरे लोड होती है, तो Google आपकी साइट को धीमा समझेगा।

यदि आपने अपनी साइट को Search Console में verified किया है, तो आप देख सकते हैं कि आपकी साइट में कोई mobile usability की समस्या है या नहीं।

Link to important pages

यदि नहीं, तो आप Google से “Mobile-Friendly Test” tool का उपयोग कर सकते हैं।

Mobile-Friendly Test

और यदि आप पाते हैं कि आपकी साइट मोबाइल के अनुकूल नहीं है, तो यह एक परेशानी का मुद्दा है जिसे आपको प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले ठीक करना चाहिए।

प्रो टिप: सुनिश्चित करें कि आप mobile search visitors के लिए “Interstitial Popups” का उपयोग नहीं करते हैं। Google ने कहा है कि इस प्रकार के पॉपअप का उपयोग आपकी रैंकिंग को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है

Interstitial popups

Results Ko Google Analytics Me Track Kare – Track Results in Google Analytics

आपको कैसे पता चलेगा कि आप SEO में जो प्रयास डाल रहे वे सभी वास्तव में काम कर रहे हैं या नहीं?

मानो या न मानो, लेकिन आप काफी हद तक उस सवाल का जवाब एक ही टूल से दे सकते हैं: Google Analytics।

यहां बताया गया है कि Google Analytics आपके SEO अभियानों को सुचारू रूप से चलाने में मदद कर सकता है:

  • आप समय के साथ organic ट्रैफ़िक में आसानी से बदलाव देख (और visualize) भी कर सकते हैं। यदि आप इस तरह एक चार्ट देखते हैं, तो आप शायद सही रास्ते पर हैं।
  • आप यह पहचान कर सकते हैं कि search engines से सबसे अधिक ट्रैफ़िक में कौन से page पर आता है। इस तरह, आप जो trick काम कर रहे हैं उस पर दोगुना काम कर सकते हैं।
  • Google Analytics यह ट्रैक करना आसान बनाता है कि वेबसाइट visitors आपकी साइट के साथ कैसे interact करते हैं। Bounce Rate and Pageviews जैसे मेट्रिक्स आपको यह समझने में मदद करते हैं कि आपका content Google searchers की जरूरतों को पूरा करता है या नहीं।
  • साथ ही, आप GA में conversion tracking सेटअप भी कर सकते हैं। इस तरह, आप देख सकते हैं कि SEO से आने वाला ट्रैफ़िक वास्तव में leads and sales में परिवर्तित हो रहा है।

Link Building Kya Hota Hai – Link Building Basics

लिंक बनाने का मुख्य लक्ष्य अपनी वेबसाइट के लिए किसी अन्य की वेबसाइट से link प्राप्त करना है। इसे “Off-Page SEO” के रूप में भी जाना जाता है।

Off-page SEO

भले ही backlinks पहले दिन से Google के एल्गोरिदम की रीढ़ हैं, फिर भी वे बहुत महत्वपूर्ण हैं।

वास्तव में, Stone Temple Consulting 2016 से search results के एक ही सेट का विश्लेषण कर रहा है।
और उन्हें पता चला कि link अभी भी  first page Google रैंकिंग के साथ दृढ़ता से सहसंबद्ध हैं

Links correlated with Google ranking

Links search engine optimization का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। और इसके जल्द ही बदलने की संभावना नहीं है।

इसके साथ, यहां सभी चीजों के link building पर एक quick primer है।

Link Authority Kya Hota Hai

सभी Link एक जैसे नहीं होते।

विशेष रूप से, trusted, authority sites के लिंक एक small, low-authority website के लिंक की तुलना में आपकी साइट पर अधिक PageRank पास करेंगे।

Effect of high authority pages

Authority को मापने के दो मुख्य तरीके हैं: Domain Authority और Page Authority।

Domain Authority पूरी वेबसाइट की Authority को ब्यान करती है। इसलिए, भले ही किसी specific page के पास link न हो, फिर भी Domain Authority का अर्थ है कि पेज के पास अभी भी कुछ authority है।

Page Authority एक specific webpage की authority को ब्यान करती है।

यदि आप link authority metrics को और भी गहराई में समझना चाहते है तो में MOZ की इस वीडियो को देखने की सलाह देता हूं

जाहिर है, आप high-authority websites के authority pages से लिंक चाहते हैं। दिक्कत केवल यह है कि ये link प्राप्त करना बहुत कठिन हैं।

Focus On Links From Relevant Websites

जब आप अपनी वेबसाइट के लिंक बनाना शुरू करते हैं, तो एक cardinal rule को ध्यान में रखें:

“Get links from relevant websites”.

ऐसा इसलिए है क्योंकि जो website आपके niche से संबंधित है वो साइटों के लिंक अन्य niche की साइटों की तुलना में अधिक SEO value देती हैं।

Contextual backlinks

साथ ही, relevant sites के लिंक Google को दिखाते हैं कि आपके लिंक वैध हैं। अगर आपकी website को किसी दूसरी niche की website से link मिलता है तो यह वास्तव में unnatural दिखता है।

(नोट: यह unrelated websites से कुछ लिंक प्राप्त करने के लिए पूरी तरह से ठीक है। लेकिन अगर इस तरह के लिंक आप ज्यादा बनाते हैं, तो आपको समस्या हो सकती है)।

White Hat vs. Black Hat SEO Techniques Kya Hai?

पहली चीज़ जो आप notice करेंगे 

वास्तव में,  2009 में एक समय था जब black hat SEO एक SEO technique थी। क्योंकि उस समय वो shaddy link building technique अच्छे से काम भी करती थी।

लेकिन आज, इस तरह की shaddy link building technique लगभग उतने काम नहीं करते हैं जितने कि वे करते थे। साथ ही, वे आपकी साइट को Google के search results से पूरी तरह दूर कर देते हैं

Spammy site

यही कारण है कि मैं black hat SEO को recommend नहीं करता हूं। क्यूंकि यह जोखिम से भरपूर है।

आपको कैसे पता चलेगा कि एक specific link building रणनीति black या white hat है?

  • आप Google की “link schemes” की list को पड़ सकते हैं| यह उन चीजों की एक नियमित रूप से अपडेट की गई list है जिसे Google shaddy मानता है।
  • क्या आपने लिंक के लिए भुगतान किया था? कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसका उत्तर कैसे देते हैं, किसी लिंक के लिए सीधे भुगतान करना हमेशा Google के दिशानिर्देशों के खिलाफ होता है।
  • क्या लिंक “अर्जित” था? दूसरे शब्दों में, क्या किसी ने आपकी साइट से लिंक किया क्योंकि उन्हें लगा कि यह लिंक करने लायक है? यदि हां, तो आप अच्छे हैं।

अब आप स्पष्ट हो गए होंगे:

ब्लैक हैट एसईओ लिंक बिल्डिंग के बारे में नहीं है। कई अन्य ब्लैक हैट एप्रोच हैं जिनका (doorway pages) जैसे लिंक से कोई लेना-देना नहीं है।

लेकिन ज्यादातर मामलों में, जब लोग “ब्लैक हैट एसईओ” कहते हैं, तो वे ब्लैक हैट लिंक बिल्डिंग का जिक्र करते हैं।

इसके साथ, आइए कुछ white hat link building की रणनीतियों को कवर करें जो मैं उपयोग करता हूं और सुझाता हूं।

Skyscraper Technique Kya Hai?

यदि आप SEO और कंटेंट मार्केटिंग के लिए नए हैं, तो मैं द स्काईस्क्रेपर तकनीक की सलाह देता हूं क्योंकि यह कंटेंट बनाने में बहुत अधिक guesswork लगाता है जिससे कि ब्लॉगर्स और पत्रकारों को लिंक करने की संभावना अधिक होगी।

यह कहना आसान नहीं है कि यह प्रक्रिया आसान है। वास्तव में, यह दृष्टिकोण कड़ी मेहनत का एक इम्तेहान लेता है।

लेकिन जिस कारण से मैं यहां शुरू करने की सलाह देता हूं वह यह है कि Skyscraper content बनाने और promote करने के लिए relatively आसान है।

Guest Posting Kya Hai?

लिंक बिल्डिंग रणनीति के रूप में guest posting बेहद विवादास्पद (controversial) है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि guest blogging आसानी से एक वैध तरीके से जा सकती है ताकि ट्रैफ़िक और ब्लैक हैट दृष्टिकोण के संपर्क में आ सकें।

लेकिन जब सही किया जाता है, तो guest posting आपकी वेबसाइट के लिए कुछ शुरुआती लिंक और exposure प्राप्त करने का एक शानदार तरीका है।

इसके साथ, guest posting शुरू करते समय ध्यान में रखने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  • केवल संबंधित वेबसाइटों पर ही guest Post करें। असंबंधित साइटों पर बहुत सारे guest Post प्रकाशित करना एक विशाल खतरा हो सकता है।
  • अपने लिंक में keyword-rich anchor text से बचें। इसके बजाय, anchor text के रूप में अपने ब्रांड नाम के साथ एक लिंक का उपयोग करें।
  • Guest post के बैकलिंक्स आपके लिंक प्रोफ़ाइल का लगभग 5% होना चाहिए।

Linkable Assets Kya Hai?

“Linkable Assets” एक ऐसा ब्लॉग है जिसमे आप किसी topic के बारे में सारी जानकारी एक साथ दे देते हो और जिसे लोग खुशी से पड़ते हैं और बाद में link भी करते हैं।

और यह “great content” से अलग हो जाता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि internet पहले से ही बहुत “great content” है। और “10 Tips for Weight Loss” पोस्ट publish करना किसी को आपसे लिंक करने के लिए उत्साहित नहीं करेगा।

इसके बजाय, मैं ऐसी सामग्री बनाने की सलाह देता हूं जो विशेष रूप से लिंक प्राप्त करने के लिए डिज़ाइन की गई हैं।

यहां लिंकेबल एसेट्स के कुछ उदाहरण दिए जा सकते हैं:

  • Industry study
  • Myth-busting article
  • Visual guide or resource
  • Free tool
  • Curated list of tips, examples or resources

Search Intent Kya Hota Hai?

Search Intent (जिसे कभी-कभी “User Intent” भी कहा जाता है) यही प्राथमिक कारण है कि कोई व्यक्ति search करता है। जैसा कि यह पता चला है, Search Intent के चार मुख्य प्रकार हैं।

Types of user content

2020 में अगर आपको SEO में सफलता हासिल करनी है तो आपको search intent को अच्छी तरह से समझना होगा।

उदाहरण के लिए, मान लें कि आप रात के खाने के लिए कुछ Thai food खाना चाहते हैं।

ठीक है, तुम “Thai food Delhi” के लिए search करोगे।

आपका इरादा “transactional” का है। आप खाने के लिए जगह की तलाश कर रहे हैं

लेकिन बता दें कि अगर आप chicken curry बनाना चाहते हैं। आप शायद “Thai chicken curry recipe” जैसी किसी चीज़ की तलाश करेंगे।

उस स्थिति में, आपकी search intent “informational” है। आप उस dish को बनाने की जानकारी चाहते हैं।

अगर आप Google में अच्छा रैंक हासिल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि आप अपने content को search intent से align कर सकें।

User Signals Kya Hai?

आप सोच रहे होंगे:

यदि किसी website का पेज User Intent के लिए अच्छा है, तो Google कैसे जानता है?

जैसा कि यह पता चला है, Google बारीकी से देखता है कि लोग अपने search results के साथ कैसे interact करते हैं।

और अगर वे देखते हैं कि searchers आपके result को छोड़ कर किसी अन्य result पर क्लिक कर रहे हैं, तो Google आपकी content को उस search के लिए irrelevant मानेगा … और आपको SERP में नीचा रैंक देगा।

CTR .vs. Organic search position

Apni Website Ko User Signals Ke According Kaise Optimize Kare?

आपका पहला कदम यह सुनिश्चित करना है कि आपका content आपके target keyword के search intent के साथ मिलता हो।

यदि आपका content उस व्यक्ति के लिए अच्छी तरह से फिट नहीं है, जो Google चाहता है, तो वह नोटिस करेगा।

एक बार जब वो आपके page पर आते हैं तो उसके बाद, यहां कुछ अन्य चीजें दी गई हैं जिनसे आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि Google searchers आपकी content से प्यार करते हैं या नहीं:

  • आप अपने कंटेंट को अच्छे तरीके से शुरू करें और किसी भी nonsense intro का इस्तेमाल न करें। उदाहरण के लिए: इसलिए “X, Y, Z के कारण यह विषय महत्वपूर्ण है, इसके बजाय:” आज मैं आपको दिखाने जा रहा हूं कि X … । कुछ इस तरह से अपने content को शुरू करो | 
  • Images और Graphics का उपयोग करें। Images 100% text वाले लेख की तुलना में visually बहुत अधिक engaging होते हैं। और वे long-form content के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं।
  • अपने पेज पर internal और external link जोड़ें। इस तरह, लोग उन विषयों के बारे में अधिक जान सकते हैं जिन्हें आप अपने article में शामिल करते हैं।
Improve loading speed chart
  • अपना content को ऐसा लिखे, जिससे कोई भी आसानी से पढ़ सके। बड़े फोंट का उपयोग करें (मैं व्यक्तिगत रूप से 17px की सिफारिश करता हूं)। और अपने content को साफ-सुथरे वर्गों में विभाजित करने के लिए H2 और H3 sub-headers का उपयोग करें।
  • अपनी content को up-to-date रखें। मैंने पाया है कि “up-to-date” रखने से पुराने content के results और भी अच्छे हो जाते हैं। साथ ही, users हमेशा नया content पढ़ना चाहते हैं जो 100% up-to-date और relevant हो।

उभरते हुए नए SEO रुझान – Emerging SEO Trends

डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया में हम आये दिन नए उभरते हुए रुझानों को देख सकते हैं।

मैं केवल इन बातों पर काम करने की सलाह तब देता हूं जब आपके SEO fundamentals बिलकुल clear होते हैं। लेकिन अगर आप और अधिक advance जानकारी चाहते हैं, तो यह section आपके लिए है।

Schema Markup

हाल ही में search engine के रैंकिंग कारकों के अध्ययन में Schema markup का उपयोग करने और first page ranking के बीच zero संबंध पाया गया।

Presence of Schema markup

कुछ लोगों ने उस result की व्याख्या की: “स्कीमा काम नहीं करता है!”।

और यकीन मानिये, अगर आपको लगता है कि अपने पेज में schema markup को जोड़ने से आपकी organic ranking में सुधार होगा, तो आप निराश होने वाले हैं।

एक बात का ध्यान रखें कि schema का सही तरीके से उपयोग करने से आपकी organic click-through-rate बढ़ सकती है। इसलिए भले ही आपको रैंकिंग में वृद्धि न मिले, schema आपको अधिक organic traffic उत्पन्न करने में मदद कर सकता है।

उदाहरण के लिए, इन search results को देखें:

Review stars SERPs

अब आप ही बताइये की इनमे से कौन सी वेबसाइट सबसे ऊपर रैंक होगी? जाहिर है, जिसके साथ review stars लगे हुए हैं!

और यदि आप अपनी साइट के HTML में Structured Data का उपयोग करते हैं, तो review stars (और “Rich Results” के अन्य प्रकार) की समीक्षा करना संभव है। इसलिए यदि आप चाहते हैं कि आपकी साइट SERPs में बरकरार रहे, तो मैं स्कीमा को इस्तेमाल करने की सलाह देता हूँ।

E-A-T

E-A-T जिसे कि हम (“Expertise, Authority and Trustworthiness”) के नाम से जानते हैं ये कुछ ऐसा है जिस पर Google ने पिछले कुछ वर्षों में अधिक से अधिक जोर दिया है

क्यों?

यह सरल है: Google 100% आश्वस्त होना चाहता है कि search results के content पर भरोसा किया जा सकता है।

E-A-T को लेकर अभी SEO की दुनिया में बहुत विवाद है। लेकिन लब्बोलुआब यह है कि, Google को आपकी साइट को उच्च E-A-T रेटिंग देने के लिए, इसे आपके niche में trusted authority माना जाना चाहिए।

उदाहरण के लिए, विकिपीडिया पर संभवतः किसी भी अन्य वेबसाइट के मुकाबले में E-A-T रेटिंग सबसे अधिक है। यहाँ पर content को हजारों लोगों द्वारा लिखा और edit किया जाता है (जिनमें से कई अपने क्षेत्र में विशेषज्ञ हैं)।

जब E-A-T को सुधारने की बात आती है, तो वास्तव में कोई शॉर्टकट नहीं होते हैं। यदि आपकी साइट random freelance writers द्वारा लिखी गई है जो की सामान्य content को publish करती है, तो E-A-T को स्थापित करना कठिन होगा।

लेकिन अगर आप सम्मानित विशेषज्ञों द्वारा लिखी गई high-quality content को publish करते हैं, तो आपका E-A-T अच्छी स्थिति में होने वाला है। ।

साथ ही, SEO की अधिकांश चीजों की तरह, यहां तक ​​कि E-A-T भी लिंक से प्रभावित है। वास्तव में, Google ने हाल ही में पुष्टि की है कि PageRank का E-A-T की स्थापना में एक बड़ा योगदान है

Google algorithms

Voice Search SEO

यह कोई रहस्य नहीं है कि पिछले कुछ वर्षों में आवाज के साथ search करने वाले लोगों की मात्रा में वृद्धि हुई है।

Google ने यहां तक ​​बताया कि सभी वयस्कों में से लगभग आधे लोग हर रोज voice search का इस्तेमाल करते हैं।

Talking to phones

और यह तेजी से बढ़ रहा है।

जब मैं voice search के बारे में बात करता हूं तो बहुत से लोग मुझसे पूछते हैं: “voice search के लिए optimizing का क्या तरीका है? भले ही मैं Google होम में रैंक ’# 1 पर हूं, लेकिन वास्तव में मेरी वेबसाइट पर कोई नहीं जा रहा है।”

और यह एक अच्छा सवाल है।

मेरा उत्तर?

Voice Search सिर्फ अमेजन एलेक्सा की तरह स्मार्ट स्पीकर के लिए नहीं है।

वास्तव में, Search Engine Land के अनुसार, मोबाइल फोन पर की गई 5 में से 1 searches ही voice search हैं।

Voice search

दूसरे शब्दों में: अधिक से अधिक लोग अपनी आवाज के पक्ष में अपने keyboards को बायपास कर रहे हैं। और यह मोबाइल और यहां तक ​​कि desktop searches को प्रभावित कर रहा है।

आज Voice search, SEO और डिजिटल मार्केटिंग की दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण trends में से एक है। जैसे-जैसे अधिक लोग अपनी आवाज के साथ search करना शुरू करेंगे, publishers को विशेष रूप से voice searches के लिए content बनाने और optimize करने के तरीकों का पता लगाना होगा।

Optimize YouTube Videos

YouTube ने हाल ही में Facebook को पीछे छोड़ कर दुनिया की दूसरी सबसे लोकप्रिय वेबसाइट के रूप में स्थापित कर लिया है।

YouTube search

अन्य सोशल मीडिया साइटों (जैसे Twitter) के विपरीत, YouTube भी एक search engine है। जिसका मतलब है कि YouTube में रैंकिंग के लिए SEO और भी ज्यादा महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा, Sistrix के अनुसार, YouTube वीडियो अब Google के खोज परिणामों का भी एक बड़ा हिस्सा बन रहे हैं।

निश्चित रूप से, YouTube वीडियो Google के search results में वर्षों से हैं। लेकिन पिछले 18 महीनों में वे अधिक से अधिक SERP पर अपनी जगह ले चुके हैं:

how to train a dog to sit SERPs – Video

अगर SEO के नज़रिये से देखा जाये तो 2020 में YouTube पर उपस्थिति जरूरी होनी चाहिए।

Conclusion

मुझे आशा है कि आपको ये SEO guide पसंद आयी होगी। मैं “SEO क्या है” इसका जवाब देने के इलावा और भी बहुत कुछ बताना चाहता था, और वास्तव में आपको SEO start करने के लिए कुछ ठोस steps बताता हूं।

जैसा कि आप देख सकते हैं, search engine optimization के बारे में अभी भी बहुत कुछ सीखना बाकि है। लेकिन कितना targeted traffic हम SEO से ला सकते है, इस पर विचार करते हुए, यह समय और प्रयास के पूरी तरह से लायक है।

इसलिए मैं मूल बातें शुरू करने की सलाह देता हूं: सुनिश्चित करें कि search engines आपकी साइट को पूरी तरह crawl कर रहे हैं। फिर keyword-optimized content बनाना शुरू करें। अंत में, backlink प्राप्त करने के लिए outreach का उपयोग करें।

वे तीन चरण SEO की नींव हैं।

और जब आपको लगता है कि आपने उन पर महारत हासिल कर ली है, तो YouTube और voice search SEO जैसे अधिक advanced content को देखना शुरू करें।

अगर आपको मेरा ये ब्लॉग आपको अच्छा लगा हो तो आप इससे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें| 

Note: ये post Backlinko वेबसाइट पर publish की गयी पोस्ट का हिंदी version है। और इसमें use किये गए सभी Images भी Backlinko की पोस्ट से ही ली गयी हैं। आप इस पोस्ट के English version को यहाँ click करके पड़ सकते हैं।

Leave a comment