/ / SEO और SEM में क्या अंतर है? SEO Or SEM Me Kya Difference Hai?

SEO और SEM में क्या अंतर है? SEO Or SEM Me Kya Difference Hai?

मुख्य अंतर यह है कि Search Engine Optimization (SEO) केवल organic search results से traffic प्राप्त करने के लिए एक वेबसाइट के Optimization पर केंद्रित है। दूसरी ओर, Search Engine Marketing (SEM) का लक्ष्य organic और paid search दोनों से traffic और visibility प्राप्त करना है।

दूसरे शब्दों में:

Google के search results को दो मुख्य श्रेणियों में विभाजित किया गया है: paid search results और organic search results।

SEO का लक्ष्य आपकी वेबसाइट को organic search results में रैंक करना है।

अगर आप चाहें तो आप अपनी वेबसाइट को paid search results में भी रैंक करवा सकते हैं पर आपको उसके लिए भुगतान करना होगा , जिसे हम paid search results भी कहते हैं|

SEO वह है जहाँ आप organic results में रैंकिंग पर 100% ध्यान केंद्रित करते हैं। SEM तब इस्तेमाल होता है जब आप सर्च इंजन से ट्रैफिक प्राप्त करने के लिए SEO और PPC दोनों को इस्तेमाल करते हैं।

तो हाँ, SEM एक व्यापक शब्द है जिसमें SEO और PPC दोनों शामिल हैं। जिसका अर्थ है कि एसईओ SEM की छतरी श्रेणी के अंतर्गत “नीचे” है।

इस स्पष्टीकरण के साथ, आइए, SEO Or SEM के बीच कुछ प्रमुख अंतरों पर ध्यान दें।

SEO Or SEM: Inke Main Features Kya Hai?

SEO Overview

SEO का मुख्य काम बिना पैसा खरच किये अपनी वेबसाइट को optimize करना और organic तरीके से search results में रैंक करवाना है।

Google अपने एल्गोरिथ्म में 200+ रैंकिंग संकेतों का उपयोग करता है। उस ने कहा, SEO को चार मुख्य उपश्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: on-page SEO, off-page SEO, technical SEO and User Interaction Signals।

On-Page SEO: इसमें आप अपनी वेबसाइट को उन keywords के चारों ओर optimize करते हैं, जिन्हें आपका target customer Google, Bing और अन्य search इंजनों में खोजता है। उदाहरण के लिए, एक On-Page SEO करने का सबसे अच्छा अभ्यास यह है कि आप अपनी वेबसाइट के title tag, meta description और URL में अपने मुख्य keywords को शामिल करें।

Off-Page SEO: इसका मुख्य कार्य अन्य वेबसाइटों से trust और authority signals प्राप्त करना है। इसमें मुख्य रूप से आपकी साइट पर high-quality वाले बैकलिंक्स का निर्माण शामिल है। लेकिन Google आपकी साइट की authority को बढ़ाने के लिए अन्य Off-Page signals का भी उपयोग कर सकता है, जैसे E-A-T और social media sharing।

Technical SEO: यहां आप यह सुनिश्चित करते हैं कि Google और अन्य search इंजन आपकी वेबसाइट के सभी pages को crawl और index करते रहें। Technical SEO में यह सुनिश्चित करना भी शामिल है कि आपके pages जल्दी से लोड होते हैं। और यह कि आपकी साइट architecture सही ढंग से स्थापित है।

User Interaction Signals: जिस तरह से users आपकी साइट के साथ interact करते हैं, उससे यह पता लगाने में मदद मिलती है कि क्या आपका page किसी की search के लिए एक अच्छा मेल है। उदाहरण के लिए, यदि आपके page में high bounce rate है, तो यह संकेत हो सकता है कि आपका page किसी को उनके प्रश्न का उत्तर नहीं दे रहा है। और अगर Google आपके पेज को उस keyword के लिए खराब मानता है, तो वे आपकी रैंकिंग को थोड़ा नीचे गिरा सकते हैं। या पहले result pages से completely बाहर भी कर सकते हैं।

याद रखें: SEM एक उच्च-स्तरीय शब्द है जिसमें SEO शामिल है। तो SEO के बारे में जो सब कुछ अभी मेने ऊपर बताया है वो सब कुछ SEM के लिए लागू होता है। लेकिन SEO के अलावा, SEM में PPC भी शामिल है। और PPC एक ऐसा क्षेत्र है जिसके अपने features हैं और इसको करने के लिए live campaigns पर अच्छे से practice करनी पड़ती है।

Bidding: चाहे आप Google Ads या Bing Ads का उपयोग करें, paid ads सिर्फ और सिर्फ bidding (बोली-प्रक्रिया) के बारे में हैं। PPC के साथ, आप एक specific keyword पर बोली (bid) लगाते हैं। और जब कोई उस कीवर्ड को search करता है, तो आपका Ad दिखाई देता है।

विज्ञापनों की रैंकिंग आमतौर पर  पर निर्धारित होती है कि कोई कितनी बोली (bid) लगा रहा है। यदि आप सबसे अधिक बोली (bid) लगाने वाले हैं, तो आपके विज्ञापन अन्य सभी विज्ञापनों से ऊपर दिखाई देंगे।

और जब कोई आपके विज्ञापन पर क्लिक करता है, तो आप जो भी बोली लगाते हैं, उसका भुगतान करते हैं। आपके द्वारा अपने विज्ञापन पर क्लिक करने पर दी जाने वाली राशि को cost per click (CPC) के रूप में जाना जाता है।

गुणवत्ता स्कोर (Quality Score): गुणवत्ता स्कोर Google का एक महत्वपूर्ण विज्ञापन metric है। यह मूल रूप से Google का तरीका है जिससे Google यह सुनिश्चित करता है कि search के लिए आपका विज्ञापन एक अच्छा मेल है या नहीं।

Google गुणवत्ता स्कोर को दो तथ्यों को मिला कर करता है, पहला, आपके landing page की गुणवत्ता कितनी है और दूसरा, आपके Google Ad account का कुल गुणवत्ता स्कोर, इन दोनों के आधार पर Google गुणवत्ता स्कोर की गणना करता है। और यदि आपके विज्ञापन में उच्च गुणवत्ता स्कोर है, तो आपको प्रत्येक क्लिक पर छूट मिलेगी। 

Ad Copy: PPC में अच्छे नतीजे हासिल करने के लिए सबसे जरुरी कार्य  विज्ञापन कॉपी (Ad Copy) लिखना है। क्यूंकि Great ad copy=high CTR। और CTR का मतलब है एक अच्छी गुणवत्ता स्कोर। जिसका मतलब है कि आप एक ही क्लिक के लिए कम भुगतान करेंगे।

इसका उल्टा भी सही है। यदि आपकी Ad Copy लोगों को आपके विज्ञापन पर click करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करती है, तो इससे आपके गुणवत्ता स्कोर को नुकसान होगा। और आपके विज्ञापन और भी महंगे होने लगेंगे।

SEO Or SEM: Results प्राप्त करने में कितना समय लगता है?( How Long It Takes to See Results)

SEO Or SEM के बीच मुख्य अंतरों में से एक speed है।

तथ्य यह है: SEO करने में समय लगता है। बहुत समय। खासकर यदि आपकी साइट नई है और अभी तक बहुत सारे बैकलिंक्स भी न बने हों।

वास्तव में, Ahrefs द्वारा एक analysis में पाया गया कि Google के पहले पृष्ठ पर रैंक करने के लिए औसतन 2 वर्ष लगते हैं। और top-ranking pages में से कई 3+ साल पहले प्रकाशित किए गए थे।

इसका मतलब यह नहीं है कि आपको Google में रैंक करने के लिए 2 साल लगने चाहिए। यदि आप long tail keywords को target करते हैं और SEO की best techniques का इस्तेमाल करते हो, तो आप कुछ महीनों के भीतर कुछ परिणाम देखना शुरू कर सकते हैं।

SEO Or SEM: इसमें कितना खर्च आता है? (How Much They Cost)

बहुत सारे लोग SEO के लिए तैयार हैं क्योंकि यह इससे आपको “मुफ्त वेबसाइट ट्रैफ़िक” मिलता है।

और हाँ, जब कोई व्यक्ति organic search results में आपकी साइट पर क्लिक करता है, तो आप भुगतान नहीं करते हैं।

अगर आप भी कुछ ऐसा ही सोचते हैं, तो आज में आपको एक बात साफ़-साफ़ बता दूँ कि: SEO free नहीं है। आस – पास भी नहीं।

में आपको एक उदाहरण के जरिये समझाता हूँ:

आप google पर कुछ सर्च करिये| आप देखेंगे की उस search के according कुछ websites आ रही हैं| आपको लगता है की ये websites पर फ्री का ट्रैफिक आ रहा है| पर आप ये बात भूल रहे है कि इस वेबसाइट को रैंक करवाने के लिए कड़ी मेहनत, एक शानदार content जिसे आप रैंक करवाएंगे| उसके बाद ये भी सुनिश्चित करेंगे की उस content को रैंक करवाने के लिए keywords पर कितना competition है| उसके लिए आपको Ahref और SEMRush जैसे paid tools का इस्तेमाल करना पड़ता है| 

फिर कई बार आपको अपनी वेबसाइट पर high quality की images और videos को add करना पड़ता है| उसके लिए आपको graphic designer और video editor की जरुरत पड़ती है| 

अगर आपको अपनी वेबसाइट की codding में कुछ बदलाव करना है तो इसके लिए आपको एक developer की जरुरत होगी| 

और इतने लोगों से काम करवाने और SEO Tools को खरीदने के लिए आपको पैसे खर्च करने पड़ते है| 

और इस बात की भी कोई guarantee नहीं है की आपका पेज रैंक होगा| 

तो इससे ये बात तो साफ़ हो जाती है कि SEO भी free नहीं है|

जब आप भुगतान करना बंद कर देते हैं, तो आपका ट्रैफ़िक शून्य हो जाता है।

लेकिन SEO के साथ, एक बार जब आप रैंक करते हैं, तो आप बहुत ज्यादा सेट होते हैं। आपका सारा निवेश आपके सामने है। जब आप वास्तव में रैंक कर लेते हैं, तो आपको अपनी वर्तमान रैंकिंग बनाए रखने के लिए बहुत अधिक धन निवेश करने की आवश्यकता नहीं होती है।

तो, हाँ, जब लागत की बात आती है, तो SEO और PPC के पास अपने फायदे और नुक्सान हैं। यही कारण है कि अधिकांश व्यवसाय एक मिली-जुली (mix) रणनीति का उपयोग करते हैं जिसमें SEO और PPC का मिश्रण शामिल है।

SEO Or PPC: हमें कहाँ पर ध्यान लगाना चाहिए ? (What to Focus On)

क्या आपको अपने 100% डिजिटल मार्केटिंग प्रयासों को एसईओ पर केंद्रित करना चाहिए? या फिर आपको SEO Or PPC को मिलाना चाहिए और एक full-on सर्च मार्केटिंग अभियान शुरू करना चाहिए।

When to Focus Just SEO

आपके पास बहुत सीमित बजट है: यदि आप एक छोटे व्यापारी हैं या आपका कोई startup business है, तो आप शायद SEO पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। आप महीनों या वर्षों तक अपने SEO बजट पर ROI नहीं देख सकते हैं।

आप Informational Keywords के लिए रैंक कर सकते हैं: Informational Keywords “X क्या है” या “X कैसे करें” जैसे शब्द हैं। हालाँकि इस प्रकार के search queries अच्छी तरह से convert नहीं होते हैं, फिर भी उनमें बहुत अधिक search volume होता है। इसलिए यदि आपको ऐसा लगता है कि आप उन विषयों पर अद्भुत content लिख सकते हैं जो ग्राहक Google में search करते हैं, तो SEO शायद आपकी सबसे पहली choice होगी।

आप इंतजार कर सकते हैं: SEO और content marketing को रैंक करने के लिए समय लगता है। इसलिए यदि आप लंबे गेम खेल सकते हैं और 6-12 महीने तक प्रतीक्षा कर सकते हैं तो Google search से अच्छा ट्रैफ़िक लाने के लिए, SEO के साथ जाएं।

आप लिंक बिल्डिंग में अच्छे हैं: high-quality content बनाना Google में रैंकिंग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। लेकिन यह पर्याप्त नहीं है। यदि आप रैंकिंग के बारे में गंभीर हैं, तो आपको लिंक करने के लिए अन्य साइटों से लिंक प्राप्त करने के लिए कुछ अलग लिंक बिल्डिंग रणनीतियों का भी उपयोग करना होगा।

PPC पर कब ध्यान देना चाहिए (When to Focus on PPC)

मान लो आपके पास एक निरंतर विज्ञापन बजट है: और PPC विज्ञापनों के बारे में एक अच्छी बात यह है कि आप एक सख्त बजट निर्धारित कर सकते हैं। इस तरह, आपके द्वारा योजनाबद्ध तरीके से अधिक खर्च करना असंभव है।

यदि आप नहीं जानते कि PPC ads को कैसे चलाया जाता है, और आपके पास आपका PPC का कोई भी अनुभव नहीं है| (और यदि आप भुगतान किए गए विज्ञापनों के साथ शुरू हो रहे हैं, तो आपको यह नहीं पता होगा) तो उससे आपका बजट बड़ी जल्दी से ख़तम हो सकता है।

जिसका अर्थ है कि आपको एक नियमित मासिक बजट की आवश्यकता है जिसे आप यह पता लगा सकते हैं कि कौन सा target keyword, ad copy, landing page और bid का संयोजन आपके लिए सबसे अच्छा perform कर रहा है| 

बहुत से लोगों को यह लगता है की वो एक Adwords Account को Manage कर सकते हैं|  वो ये भी समझते हैं कि ये काम तो बहुत आसान है: बस सतह पर, पीपीसी सुपर सरल लगता है। keywords पर बोली लगाओ और अपनी वेबसाइट के लिए traffic हासिल करो। लेकिन ये सब सतही बातें हैं| 

लेकिन असल में, Google Adwords Account को Manage करना कोई मज़ाक नहीं है। आपको keyword-targeting, ads, Quality Score, ROI, conversion rates … और अपने विज्ञापनों से अधिकतम लाभ उठाने के बारे में निर्णय लेने के लिए इस डेटा को संसाधित करने की आवश्यकता है।

आपके पास Landing Pages को Launch करने और Test करने की क्षमता होनी चाहिए है: PPC के बारे में पहली चीज़ जो आप सीखेंगे, वह यह है कि आपको प्रत्येक विज्ञापन के लिए targeted landing page चाहिए और हर प्रकार के ad group भी। तो PPC का अधिकतम लाभ उठाने के लिए, आपको बहुत से विभिन्न वेब पेजों को जल्दी से लॉन्च करने का एक तरीका आना चाहिए। और यह पता लगाने के लिए A/B test करें, जिससे आपको पता चलेगा कि कौन सा वेबपेज सबसे अच्छा प्रदर्शन कर रहा है।

अगर आपको मेरा ये ब्लॉग आपको अच्छा लगा हो तो आप इससे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें| 

Similar Posts